International News

Visa Duration For Pakistani Citizens Has Been Reduced To Three Months From Five Years, Reports ARY News Quoting US Embassy Spokesperson. | 9/11 हमले के बाद भी नहीं हुआ था जो, पुलवामा अटैक के बाद अमेरिका ने पाकिस्तान के खिलाफ अब कर दिया वो


इंटरनेशनल डेस्क (वाशिंगटन). जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद से ही पाकिस्तान को दुनियाभर से नसीहतें मिल रही हैं। अब अमेरिका ने उसे एक जोरदार झटका देते हुए उसके खिलाफ बड़ा कदम उठाया है। अमेरिका ने पाकिस्तान के नागरिकों की वीजा अवधि 5 साल से घटाकर सिर्फ 3 महीने कर दी है। यानी पाकिस्तानी पासपोर्ट रखने वाला कोई शख्स को अब अमेरिका में तीन महीने से ज्यादा नहीं रह सकेगा। इससे पहले ये अवधि पांच साल तक थी। यूएस ने ये कदम आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान के ढीले रवैये को देखते हुए उठाया है।

अब कोई पाकिस्तानी नहीं रह पाएगा अमेरिका में 3 महीने से ज्यादा

– आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं करने से नाराज अमेरिका ने पाकिस्तान के खिलाफ ये बड़ा कदम उठाया है। इसी वजह से उसने पाकिस्तानी नागरिकों को मिलने वाली वीजा की अवधि को 5 से घटाकर 3 साल कर दिया है।

– ये जानकारी ARY न्यूज ने अमेरिकी दूतावास के प्रवक्ता के हवाले से दी है। इस कार्रवाई के बाद पाकिस्तान के लिए अब दुनिया में मुंह दिखाना मुश्किल हो जाएगा। क्योंकि किसी भी देश के लिए तीन महीने का वीजा जारी करना बेहद शर्म की बात है।

– पाकिस्तान के खिलाफ इतनी कड़ी कार्रवाई तो अमेरिका ने 9/11 हमले और ओसामा बिन लादेन के एबटाबाद में मिलने के बाद भी नहीं की थी। बता दें कि आतंकवाद के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करने को लेकर पाकिस्तान कड़ी आलोचनाओं का सामना कर रहा है।

– वीजा अवधि कम होना पाकिस्तान के लिए दोहरा झटका है, क्योंकि भारत के खिलाफ F-16 विमान इस्तेमाल करने को लेकर भी अमेरिका ने उससे सफाई मांगी है। दरअसल पुलवामा हमले के बाद भारत ने 26 फरवरी को पीओके में एयर स्ट्राइक करते हुए आतंकी ठिकानों के खिलाफ कार्रवाई की थी।

– इसके अगले दिन पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ F-16 विमान इस्तेमाल करते हुए हमले की कोशिश की थी। जवाबी कार्रवाई में भारत ने 60 साल पुराने मिग-21 विमान से अमेरिका का दिया अत्याधुनिक F-16 मार गिराया था। इस बात से भी अमेरिका बेहद नाराज हो गया है।

– पाकिस्तान ने कार्रवाई में F-16 के इस्तेमाल करने की बात से इनकार किया था, लेकिन सबूत सामने आने के बाद अमेरिका ने इस बारे में भी पाकिस्तान से रिपोर्ट मांगी है। दरअसल अमेरिका ने ये विमान पाकिस्तान को आतंक के खिलाफ लड़ाई में इस्तेमाल करने के लिए दिया था। लेकिन भारत के खिलाफ इस्तेमाल करके वो बुरी तरह फंस गया।





Source link

About the author

Non Author

Leave a Comment