National News

Sohrabuddin Fake Encounter Case: CBI Special Court Verdict on 21st Dec | सोहराबुद्दीन केस में 21 दिसंबर को फैसला सुनाएगी मुंबई की विशेष अदालत


  • 2005 में सोहराबुद्दीन शेख और उसकी पत्नी कौसर बी का कथित फर्जी एनकाउंटर हुआ
  • सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सुनवाई गुजरात से मुंबई के स्पेशल कोर्ट में स्थानांतरित की गई थी

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 12:54 PM IST

मुंबई. गुजरात के सोहराबुद्दीन शेख फर्जी एनकाउंटर मामले में मुंबई की स्पेशल कोर्ट 21 दिसंबर को फैसला सुनाएगी। 2005 में गुजरात पुलिस ने सोहराबुद्दीन शेख और उसकी पत्नी कौसर बी की कथित एनकाउंटर में हत्या कर दी थी। सोहराबुद्दीन के सहयोगी और केस में गवाह तुलसी प्रजापति को भी एक साल बाद राजस्थान और गुजरात पुलिस ने एनकाउंटर में मार दिया था।

वंजारा के कहने पर सोहराबुद्दीन ने की हरेन पांड्या की हत्या: चश्मदीद

  1. 4 नवंबर को सुनवाई के दौरान एक चश्मदीद ने कोर्ट के सामने बयान दिया था कि शेख ने गुजरात के गृह मंत्री हरेन पांड्या की हत्या की थी। चश्मदीद ने कहा- 2003 में पांड्या की हत्या के लिए गुजरात के पूर्व आईपीएस डीजी वंजारा ने सोहराबुद्दीन को ऑर्डर दिए थे।


  2. मुंबई की विशेष अदालत में शिफ्ट की गई थी सुनवाई 

    सीबीआई ने इस मामले में 38 लोगों को आरोपी बनाया था। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इस केस की सुनवाई गुजरात से मुंबई के स्पेशल कोर्ट में स्थानांतरित की गई थी। स्पेशल कोर्ट ने 16 लोगों को आरोपों से बरी कर दिया था। इनमें 14 पुलिस अधिकारी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शामिल थे।


  3. सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस

    सीबीआई के मुताबिक, गुजरात के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने सोहराबुद्दीन शेख और उसकी पत्नी कौसर बी को उस वक्त अगवा कर लिया था जब वे हैदराबाद से महाराष्ट्र के सांगली जा रहे थे।

  4. नवंबर 2005 में गांधीनगर के करीब कथित फर्जी एनकाउंटर में शेख की हत्या कर दी गई। यह दावा किया गया कि उसके पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के साथ संबंध थे।

  5. पुलिस ने दिसंबर 2006 में मुठभेड़ के चश्मदीद गवाह और शेख के साथी तुलसीराम प्रजापति की भी कथित तौर पर गुजरात के बनासकांठा जिले के चपरी गांव में हत्या कर दी। अमित शाह तब गुजरात के गृह राज्यमंत्री थे। उन पर दोनों घटनाओं में शामिल होने का आरोप था।





Source link

About the author

Non Author

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.