National News

Reliance Industries Chairman Tops Hurun India Philanthropy List with Rs437 Crore Donation between Oct17 to Sep18 | 39 अमीरों ने 12 महीने में 1560 करोड़ रु दान किए, मुकेश अंबानी ने सबसे ज्यादा 437 करोड़ दिए


  • हुरुन इंडिया की परोपकारियों की लिस्ट, अक्टूबर 2017 से सितंबर 2018 तक दान की राशि शामिल
  • पीरामल ग्रुप के चेयरमैन अजय पीरामल का दूसरा नंबर, उन्होंने 200 करोड़ रुपए की डोनेशन दी

मुंबई. हुरुन रिसर्च इंस्टीट्यूट ने परोपकार पर सबसे ज्यादा खर्च करने वाले देश के अमीरों की लिस्ट जारी की है। इसमें मुकेश अंबानी सबसे ऊपर हैं। 1 अक्टूबर 2017 से 30 सितंबर 2018 तक उन्होंने सामाजिक कार्यों पर 437 करोड़ रुपए खर्च किए। दूसरा नंबर पीरामल ग्रुप के चेयरमैन अजय पीरामल का है। उन्होंने 200 करोड़ रुपए की डोनेशन दी। हुरुन इंडिया की लिस्ट में 39 लोगों के नाम हैं। उन्होंने कुल 1,560 करोड़ रुपए दान में दिए।

विप्रो के अजीम प्रेमजी ने 113 करोड़ रुपए की डोनेशन दी

  1. सबसे ज्यादा दान देने वाले 10 लोग













    नाम/कंपनी डोनेशन (रुपए)
    मुकेश अंबानी, रिलायंस 437 करोड़
    अजय पीरामल, पीरामल ग्रुप 200 करोड़
    अजीम प्रेमजी, विप्रो 113 करोड़
    आदि गोदरेज, गोदरेज ग्रुप 96 करोड़
    युसूफ अली एम ए, लूलू ग्रुप 70 करोड़
    शिव नडार, एचसीएल 56 करोड़
    सावजी ढोलकिया, हरि कृष्णा एक्सपोर्ट 40 करोड़
    शपूरजी पलोंजी मिस्त्री, शपूरजी पलोंजी ग्रुप 36 करोड़
    सायरस मिस्त्री, पूर्व चेयरमैन (टाटा संस) 36 करोड़
    गौतम अडानी, अडानी ग्रुप 30 करोड़
  2. हुरुन की लिस्ट में उन लोगों को शामिल किया गया है जिन्होंने 1 अक्टूबर 2017 से 30 सितंबर 2018 तक 10 करोड़ रुपए से ज्यादा की डोनेशन दी। लिस्ट के मुताबिक शिक्षा के लिए सबसे ज्यादा रकम दान दी गई। इस मामले में स्वास्थ्य और ग्रामीण विकास दूसरे और तीसरे नंबर पर रहे।

  3. मुकेश अंबानी रिलायंस फाउंडेशन के जरिए सामाजिक कार्यों पर खर्च करते हैं। यह फाउंडेशन शिक्षा, समाज, ग्रामीण विकास और स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करती है।

  4. मुकेश अंबानी देश के ही नहीं बल्कि एशिया के सबसे बड़े अमीर हैं। पिछले साल सितंबर में जारी बार्कलेज हुरुन इंडिया रिच लिस्ट में भी वो टॉप पर रहे थे। इस लिस्ट में उनकी संपत्ति 3.71 लाख करोड़ रुपए बताई गई थी।





Source link

About the author

Non Author

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.