Business News

Private Jets Booked By Bjp For Lok Sabha Elections 2019 Campaigning – लोकसभा चुनाव 2019: इस मामले में भाजपा ने कांग्रेस को पछाड़ा, प्रचार के लिए किया ये काम


ख़बर सुनें

डिजिटल प्लेटफॉर्म तो चुनावी जंग का मैदान बन ही चुके हैं, आसमान भी इस दौड़ में शामिल हो गया है। चुनाव प्रचार के लिए गाड़ियां, मोटरसाइकिलें और बाकी वाहनों के साथ-साथ हेलिकॉप्टर के माध्यम से आसमान में भी चुनाव प्रचार किया जा रहा है। हेलिकॉप्टर और चार्टर्ड प्लेन बुक करवाने में भारतीय जनता पार्टी सबसे आगे है। लोकसभा चुनावों को देखते हुए भाजपा ने तीन महीने पहले ही प्रचार के लिए करीब 60 फीसदी हेलिकॉप्टर की बुकिंग करवा ली थी। अब जो आंकड़े सामने आए हैं, उनसे पता चला है कि भाजपा ने प्रचार के लिए 20 प्राइवेट जेट और 30 हैलिकॉप्टर बुक किए हैं, जो कांग्रेस के मुकाबले पांच गुना ज्यादा है। 

सोशल मीडिया को हथियार की तरह किया था इस्तेमाल 

मतदाताओं को रिझाने और अपनी बात जनता तक पहुंचाने के लिए सभी राजनीतिक दल कोई मौका नहीं छोड़ रही हैं। लाउडस्पीकर, पोस्टर और कार्यकर्ताओं की रैलियों पर लड़े जाने वाले चुनाव अब केवल यहीं तक सीमित नहीं रह गए हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने सोशल मीडिया को हथियार की तरह इस्तेमाल किया था और विपक्ष को नेस्तनाबूत करने में सफलता भी पाई थी। 

इनको हो रहा है सबसे ज्यादा लाभ

चुनाव के चलते अगर सबसे ज्यादा लाभ किसी को हो रहा है, तो वो हैं हेलिकॉप्टर और चार्टर्ड प्लेन बुक करने वाली कंपनियां। सामान्यत: घंटों के हिसाब से बुक होने वाले हेलिकॉप्टर और चार्टर्ड प्लेन पूरे चुनावी सीजन के लिए बुक हो चुके हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि जिस तरह से इस बार हेलिकॉप्टर बुकिंग हुई है वैसे पहले कभी नहीं हुई। हेलिकॉप्टरों की सीमित संख्या ने इस दौड़ को और तेज किया है ताकि विपक्षी दलों की गति को धीमा किया जा सके।  

इतना होता है खर्च

बता दें कि प्रचार के लिए एयरक्राफ्ट 45 दिनों के लिए बुक किए गए हैं और एक घंटे के लिए एक एयरक्राफ्ट की कीमत 5700 डॉलर है। वहीं एक घंटे के लिए किराए पर लिए गए चॉपर की कीमत 7200 डॉलर है। 

इनके पास हैं देश के सबसे ज्यादा हेलिकॉप्टर

देश में सबसे ज्यादा हेलिकॉप्टर पवन हंस के पास हैं तो दूसरे नंबर पर ग्लोबल वेक्ट्रा हेलीकॉर्प है। निजी जेट कंपनियों में क्लब वन एयर और ताज एयर जैसी कंपनियां भी हेलिकॉप्टर रखती हैं। कंपनियों का मानना है कि उन्हें लीज पर बाहर से छोटे हेलिकॉप्टर और चॉपर भी मंगाने पड़ सकते हैं।

डिजिटल प्लेटफॉर्म तो चुनावी जंग का मैदान बन ही चुके हैं, आसमान भी इस दौड़ में शामिल हो गया है। चुनाव प्रचार के लिए गाड़ियां, मोटरसाइकिलें और बाकी वाहनों के साथ-साथ हेलिकॉप्टर के माध्यम से आसमान में भी चुनाव प्रचार किया जा रहा है। हेलिकॉप्टर और चार्टर्ड प्लेन बुक करवाने में भारतीय जनता पार्टी सबसे आगे है। लोकसभा चुनावों को देखते हुए भाजपा ने तीन महीने पहले ही प्रचार के लिए करीब 60 फीसदी हेलिकॉप्टर की बुकिंग करवा ली थी। अब जो आंकड़े सामने आए हैं, उनसे पता चला है कि भाजपा ने प्रचार के लिए 20 प्राइवेट जेट और 30 हैलिकॉप्टर बुक किए हैं, जो कांग्रेस के मुकाबले पांच गुना ज्यादा है। 

सोशल मीडिया को हथियार की तरह किया था इस्तेमाल 

मतदाताओं को रिझाने और अपनी बात जनता तक पहुंचाने के लिए सभी राजनीतिक दल कोई मौका नहीं छोड़ रही हैं। लाउडस्पीकर, पोस्टर और कार्यकर्ताओं की रैलियों पर लड़े जाने वाले चुनाव अब केवल यहीं तक सीमित नहीं रह गए हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने सोशल मीडिया को हथियार की तरह इस्तेमाल किया था और विपक्ष को नेस्तनाबूत करने में सफलता भी पाई थी। 

इनको हो रहा है सबसे ज्यादा लाभ

चुनाव के चलते अगर सबसे ज्यादा लाभ किसी को हो रहा है, तो वो हैं हेलिकॉप्टर और चार्टर्ड प्लेन बुक करने वाली कंपनियां। सामान्यत: घंटों के हिसाब से बुक होने वाले हेलिकॉप्टर और चार्टर्ड प्लेन पूरे चुनावी सीजन के लिए बुक हो चुके हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि जिस तरह से इस बार हेलिकॉप्टर बुकिंग हुई है वैसे पहले कभी नहीं हुई। हेलिकॉप्टरों की सीमित संख्या ने इस दौड़ को और तेज किया है ताकि विपक्षी दलों की गति को धीमा किया जा सके।  





Source link

About the author

Non Author

Leave a Comment