Business News

Price Of Telephone Services In India Will Rise According To A Report – रिपोर्ट में हुआ खुलासा, भारत में महंगी होने जा रही हैं टेलीफोन सेवाएं


ख़बर सुनें

भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में जब से मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो ने प्रवेश किया है, तब से सेक्टर में प्राइस वॉर शुरू हो गया है। ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों को लुभाने के लिए कंपनियां आए दिन कोई ना कोई नया प्लान लांच करती रहती है। ऐसे में लोगों को तो सस्ते में अच्छा डाटा प्लान मिल जाता है लेकिन इससे कंपनियों के मुनाफे पर असर पड़ा है। 

रिपोर्ट से सामने आई ये बात

अब एड्लवाइज की रिपोर्ट से बात सामने आई है कि भारत में 2019-20 की दूसरी छमाही में टेलीफोन सेवाएं महंगी हो सकती हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि मोबाइल ब्रॉडबैंड सेवाएं अब इस स्तर तक हो गई हैं कि इसमें तेज ग्रोथ की ज्यादा उम्मीद नहीं है। इसके चलते अब टेलिकॉम कंपनियां टैरिफ बढ़ाने पर ध्यान देंगी।

रिपोर्ट के अनुसार जियो ने शुरुआत में 40 करोड़ सब्स्क्राइबर हासिल करने का लक्ष्य रखा था और कंपनी इस लक्ष्य के बेहद करीब है। वहीं भारती एयरटेल के संदर्भ में कहा गया है कि मजबूत बैलेंस शीट और पर्याप्त नेटवर्क इन्वेस्टमेंट के बूते अब यह भी रिकवरी की कोशिश करेगी। वोडाफोन-आइडिया भी इसी रास्ते पर जा सकती है। 

रिलायंस जियो ने हासिल किया नया मुकाम

बता दें कि दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो परिचालन शुरू करने के ढाई साल में ही 30 करोड़ उपभोक्ताओं के आंकड़े को पार कर गयी है। सूत्रों ने इसकी जानकारी दी है। सूत्रों ने बताया कि कंपनी ने यह महत्वपूर्ण आंकड़ा दो मार्च को ही हासिल कर लिया था। हालांकि जियो को इस बाबत भेजे गए सवाल का अब तक जवाब नहीं मिल सका है। कंपनी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मौजूदा सत्र में विज्ञापनों के दौरान भी 30 करोड़ ग्राहकों का लक्ष्य पाने का जश्न मनाते दिखी थी।

भारती एयरटेल ने किया खुलासा

दिसंबर 2018 को समाप्त तिमाही के लिए अपनी आय रिपोर्ट में, भारती एयरटेल ने खुलासा किया था कि उसके 284 मिलियन ग्राहक थे। हालांकि, नियामक फाइलिंग के अनुसार, भारती एयरटेल ने दिसंबर में अपने नेटवर्क पर 340.2 मिलियन ग्राहक और जनवरी के अंत में 340.3 मिलियन ग्राहक होने की सूचना दी थी।

वोडाफोन-आइडिया बनी सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी

31 अगस्त, 2018 को वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर के मोबाइल कारोबार के विलय के बाद 400 मिलियन ग्राहकों के साथ वोडाफोन आइडिया देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी बन गई है।

भारतीय टेलीकॉम सेक्टर में जब से मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो ने प्रवेश किया है, तब से सेक्टर में प्राइस वॉर शुरू हो गया है। ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों को लुभाने के लिए कंपनियां आए दिन कोई ना कोई नया प्लान लांच करती रहती है। ऐसे में लोगों को तो सस्ते में अच्छा डाटा प्लान मिल जाता है लेकिन इससे कंपनियों के मुनाफे पर असर पड़ा है। 

रिपोर्ट से सामने आई ये बात

अब एड्लवाइज की रिपोर्ट से बात सामने आई है कि भारत में 2019-20 की दूसरी छमाही में टेलीफोन सेवाएं महंगी हो सकती हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि मोबाइल ब्रॉडबैंड सेवाएं अब इस स्तर तक हो गई हैं कि इसमें तेज ग्रोथ की ज्यादा उम्मीद नहीं है। इसके चलते अब टेलिकॉम कंपनियां टैरिफ बढ़ाने पर ध्यान देंगी।

रिपोर्ट के अनुसार जियो ने शुरुआत में 40 करोड़ सब्स्क्राइबर हासिल करने का लक्ष्य रखा था और कंपनी इस लक्ष्य के बेहद करीब है। वहीं भारती एयरटेल के संदर्भ में कहा गया है कि मजबूत बैलेंस शीट और पर्याप्त नेटवर्क इन्वेस्टमेंट के बूते अब यह भी रिकवरी की कोशिश करेगी। वोडाफोन-आइडिया भी इसी रास्ते पर जा सकती है। 

रिलायंस जियो ने हासिल किया नया मुकाम

बता दें कि दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो परिचालन शुरू करने के ढाई साल में ही 30 करोड़ उपभोक्ताओं के आंकड़े को पार कर गयी है। सूत्रों ने इसकी जानकारी दी है। सूत्रों ने बताया कि कंपनी ने यह महत्वपूर्ण आंकड़ा दो मार्च को ही हासिल कर लिया था। हालांकि जियो को इस बाबत भेजे गए सवाल का अब तक जवाब नहीं मिल सका है। कंपनी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मौजूदा सत्र में विज्ञापनों के दौरान भी 30 करोड़ ग्राहकों का लक्ष्य पाने का जश्न मनाते दिखी थी।

भारती एयरटेल ने किया खुलासा

दिसंबर 2018 को समाप्त तिमाही के लिए अपनी आय रिपोर्ट में, भारती एयरटेल ने खुलासा किया था कि उसके 284 मिलियन ग्राहक थे। हालांकि, नियामक फाइलिंग के अनुसार, भारती एयरटेल ने दिसंबर में अपने नेटवर्क पर 340.2 मिलियन ग्राहक और जनवरी के अंत में 340.3 मिलियन ग्राहक होने की सूचना दी थी।

वोडाफोन-आइडिया बनी सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी

31 अगस्त, 2018 को वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर के मोबाइल कारोबार के विलय के बाद 400 मिलियन ग्राहकों के साथ वोडाफोन आइडिया देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी बन गई है।





Source link

About the author

Non Author

Leave a Comment