Home National News Odisha Teenage girl Gives Birth In School Hostel and says Forced To...

Odisha Teenage girl Gives Birth In School Hostel and says Forced To Flee To Forest | सरकारी हॉस्टल में नाबालिग लड़की ने बच्ची को दिया जन्म, घटना के बाद से हॉस्टल में मचा हड़कंप, 6 कर्मचारियों के खिलाफ की गई कार्रवाई

2
0


भुवनेश्वर. ओडिशा में सरकारी आदिवासी हॉस्टल में आठवीं क्लास की स्टूडेंट ने बच्ची को जन्म दिया। इस घटना से हॉस्टल में हड़कंप मच गया और इसके बाद 6 कर्मचारियों के खिलाफ लापरवाही बरतने के आरोप में कार्रवाई की गई। वहीं, लड़की का आरोप है कि बच्चे के जन्म के बाद उसे हॉस्टल के बाहर निकाल दिया गया था, जिसके बाद उसने पास के एक जंगल में शरण ली। हालांकि, बाद में लड़की और उसकी बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी हालत सामान्य बताई जा रही है। वहीं, इस मामले में एक सीनियर स्टूडेंट को अरेस्ट किया गया है।

हॉस्टल में बेटी को दिया जन्म

– घटना कंधमाल जिले के दरिंगबाड़ी में मौजूद सेवा आश्रम हाईस्कूल में हुई। जिला कल्याण अधिकारी चारूलता मलिक ने बताया कि आठवीं क्लास में पढ़ने वाली 14 साल की लड़की ने शनिवार को हॉस्टल में ही बच्ची को जन्म दिया।

– इसके बाद लड़की और उसकी बच्ची को फूलबाणी अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने उसकी हालत सामान्य बताई है। वहीं मलिक के मुताबिक, इस मामले में एक सीनियर स्टूडेंट को अरेस्ट किया गया है, जो तकलमहा गांव का रहने वाला है।

– हॉस्टल अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति विभाग की ओर से संचालित है। घटना सामने आने के बाद स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा मचाया और विरोध प्रदर्शन किया। वहीं विपक्ष भी सरकार पर हमलावर हो गया है।

– इस पर अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति मंत्री रमेश माझी ने कहा कि जिला कलेक्टर से मामले की जांच करने और उन परिस्थितियों पर रिपोर्ट देने को कहा गया है, जिसके चलते लड़की गर्भवती हुई और उसने बच्ची को जन्म दिया।

– उन्होंने कहा कि सरकार मामले को लेकर गंभीर है और सभी जिम्मेदार लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। पुलिस फिलहाल मामले की जांच कर रही है।

हॉस्टल स्टाफ के खिलाफ एक्शन

– जिला कलेक्टर डी ब्रूंडा ने कहा कि संस्थान के दो मैट्रन, दो बावर्ची और अटेंडेंट समेत एक महिला ऑब्जर्वर और असिस्टेंट नर्स मिडवाइफ के खिलाफ ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में कार्रवाई की गई है।

– कलेक्टर ने बताया कि स्कूल की प्रिंसिपल राधा रानी दलेई को भी इस आरोप में सस्पेंड करने के लिए सरकार से सिफारिश की गई है। साथ ही सरकार के निर्देश पर जांच रिपोर्ट पेश कर कमर्चारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है।

हॉस्टल से निकालने का आरोप

इधर, मामला सामने आने के बाद लड़की ने आरोप लगाया है कि बच्ची को जन्म देने के बाद ही दोनों हॉस्टल से बाहर निकाल दिया गया। उसे पास के एक जंगल में शरण लेने को मजबूर होना पड़ा। इसके बाद मलिक और स्थानीय पुलिस ने रविवार को दोनों को ढूंढा और उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट कराया। इसके बाद लोकल पुलिस को इसकी सूचना दी गई।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.