Naresh Goyal Can Purchase Jet Airways – नरेश गोयल खरीद सकते हैं जेट एयरवेज, गिरवी रखी अपनी 26 फीसदी हिस्सेदारी

0
8


ख़बर सुनें

जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल कंपनी में फिर से अपनी हिस्सेदारी खरीद सकते हैं। गोयल ने संकट में फंसी एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज में अपनी 26 फीसदी हिस्सेदारी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के पास गिरवी रखी है। यह हिस्सेदारी कर्ज के लिए सुरक्षा गारंटी है। बता दें कि ऋण समाधान योजना के तहत, नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनिता गोयल पिछले सप्ताह कंपनी के निदेशक मंडल से हट गए थे। 

एयरलाइन ने शेयर बाजार को दी सूचना

गुरुवार को जेट एयरवेज ने शेयर बाजार को सूचना दी कि गोयल ने पंजाब नेशनल बैंक के पास 2.95 करोड़ शेयर यानी 26.01 फीसदी हिस्सेदारी गिरवी रखी है। जेट एयरवेज (इंडिया) लिमिटेड द्वारा लिए गए कर्ज के लिए सुरक्षा के तौर पर यह हिस्सेदारी चार अप्रैल को गिरवी रखी गई है। 

जारी किए गए गोयल के शेयर

जानकारी के मुताबिक, इसी दिन गोयल के 5.79 करोड़ से अधिक शेयरों को जारी किया गया है। ये शेयर एयरलाइन द्वारा कर्ज के लिए सुरक्षा के तौर पर ‘नहीं बिकने वाली श्रेणी’ में रखे गए थे। 

कंपनी में हिस्सेदारी के लिए बड़ा कदम उठा सकते हैं गोयल

कर्ज में डूबी जेट एयरवेज के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल एयरलाइन में हिस्सेदारी के लिए बड़ा कदम उठा सकते हैं। गोयल गुरुवार को शुरुआती बोली जमा कर सकते हैं। भारतीय स्टेट बैंक कैपिटल ने आठ अप्रैल को जेट एयरवेज में हिस्सेदारी बिक्री के लिए रूचि पत्र आमंत्रित किया है। बता दें कि उसने अंतिम बोली जमा करने की तिथि 10 अप्रैल से बढ़ाकर 12 अप्रैल कर दी है। 

शुरुआती बोली जमा कर सकते हैं गोयल – सूत्र

बिक्री के लिए 31 फीसदी से 75 फीसदी तक हिस्सेदारी रखी गई है। एसबीआई की अगुवाई वाले बैंकों के समूह की तरफ से एसबीआई कैपिटल को कर्ज में डूबी एयरलाइन में हिस्सेदारी बिक्री की जिम्मेदारी मिली है। इस संदर्भ में गोयल से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि, ‘नरेश गोयल जेट एयरवेज के लिए गुरुवार को शुरुआती बोली जमा कर सकते हैं।’ 

ये हैं बोली के नियम

एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने पिछले महीने कहा था की, ‘बोली में नरेश गोयल या एतिहाद समेत वित्तीय निवेशक, एयरलाइन भाग ले सकते हैं। नियम के अनुसार बोली में भाग लेने को लेकर किसी पर भी पाबंदी नहीं है।’ 

फिलहाल है 100 करोड़ डॉलर का बकाया

कंपनी पर फिलहाल 100 करोड़ डॉलर (69.23 लाख करोड़ रुपये) बकाया है। इंडियन ऑयल ने भुगतान नहीं करने पर जेट एयरवेज की तेल आपूर्ति रोक दी थी। इस कदम से परिचालन में चल रहे कंपनी के करीब 26 विमानों पर असर पड़ा था और जल्द ही भुगतान नहीं किया गया तो इनकी उड़ानें भी रोकी जा सकती थीं। 

मुश्किल दौर से गुजर रही विमानन कंपनी

जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनीता गोयल पिछले महीने समस्या में फंसी एयरलाइन के निदेशक मंडल से हट गये थे। बैंक समूह के समाधान योजना के तहत जेट एयरवेज में गोयल की बहुलांश हिस्सेदारी घटकर नीचे आ गयी है। जेट एयरवेज पर फिलहाल एसबीआई के अगुवाई वाले कर्जदाताओं के 8,000 करोड़ रुपये बकाया है। 

जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल कंपनी में फिर से अपनी हिस्सेदारी खरीद सकते हैं। गोयल ने संकट में फंसी एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज में अपनी 26 फीसदी हिस्सेदारी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के पास गिरवी रखी है। यह हिस्सेदारी कर्ज के लिए सुरक्षा गारंटी है। बता दें कि ऋण समाधान योजना के तहत, नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनिता गोयल पिछले सप्ताह कंपनी के निदेशक मंडल से हट गए थे। 

एयरलाइन ने शेयर बाजार को दी सूचना

गुरुवार को जेट एयरवेज ने शेयर बाजार को सूचना दी कि गोयल ने पंजाब नेशनल बैंक के पास 2.95 करोड़ शेयर यानी 26.01 फीसदी हिस्सेदारी गिरवी रखी है। जेट एयरवेज (इंडिया) लिमिटेड द्वारा लिए गए कर्ज के लिए सुरक्षा के तौर पर यह हिस्सेदारी चार अप्रैल को गिरवी रखी गई है। 

जारी किए गए गोयल के शेयर

जानकारी के मुताबिक, इसी दिन गोयल के 5.79 करोड़ से अधिक शेयरों को जारी किया गया है। ये शेयर एयरलाइन द्वारा कर्ज के लिए सुरक्षा के तौर पर ‘नहीं बिकने वाली श्रेणी’ में रखे गए थे। 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here