Home National News Jet Airways in talks with SBI for Rs 1500 crore loan |...

Jet Airways in talks with SBI for Rs 1500 crore loan | एसबीआई से 1500 करोड़ रु का लोन लेने पर विचार कर रही है जेट एयरवेज

3
0


  • न्यूज एजेंसी के मुताबिक वर्किंग कैपिटल जुटाने के लिए लोन लेने की योजना
  • जेट एयरवेज पर 8052 करोड़ रु का कर्ज, 3 तिमाही में 3620 करोड़ का घाटा
  • पिछले दो महीने से स्टाफ की सैलरी भी समय पर नहीं दे पा रही एयरलाइन

Dainik Bhaskar

Dec 31, 2018, 11:49 AM IST

मुंबई. घाटे में चल रही जेट एयरवेज स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) से 1,500 करोड़ रुपए का लोन लेने की कोशिश में जुटी है। न्यूज एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक वर्किंग कैपिटल की जरूरतें पूरी करने और कुछ बकाया चुकाने के लिए यह शॉर्ट टर्म लोन लिया जाएगा। जेट में 24% हिस्सेदारी रखने वाली एतिहाद एयरलाइन लोन के लिए गारंटर हो सकती है। न्यूज एजेंसी ने रविवार को यह जानकारी दी। इससे जेट एयरवेज के शेयर में सोमवार को 3% तेजी दर्ज की गई।

जेट के खातों का ऑडिट भी करवा रही है एसबीआई

  1. एसबीआई से लोन लेने पर विचार की बात इसलिए अहम है क्योंकि एसबीआई के आदेश पर अकाउंटिंग फर्म अर्नस्ट एंड यंग (ईवाई) जेट एयरवेज का फोरेंसिंक ऑडिट कर रही है। बैंक ने व्हिसलब्लोअर की शिकायत पर ऑडिट कराने का फैसला लिया था। अप्रैल 2014 से मार्च 2018 तक एयरलाइन के खातों की जांच होगी।

     

  2. न्यूज एजेंसी के मुताबिक जेट एयरवेज ने लोन के बारे में कोई जवाब नहीं दिया। एतिहाद ने कहा कि वह अनुमान और अफवाहों पर टिप्पणी नहीं कर सकती। वहीं एसबीआई के प्रवक्ता ने कहा कि बैंक की पॉलिसी के मुताबिक व्यक्तिगत खाते के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता।

  3. जेट एयरवेज को पिछली तीन तिमाही में लगातार घाटा हुआ है। जुलाई-सितंबर में इसे 1261 करोड़ रु का नुकसान हुआ। अप्रैल-जून में 1,323 करोड़ रुपए और जनवरी-मार्च में 1,036 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। ईंधन समेत दूसरे खर्च बढ़ने की वजह से एयरलाइंस दबाव में है। 30 सितंबर तक एयरलाइन पर 8,052 रुपए का कर्ज था।

  4. जेट एयरवेज ने पिछले महीनों में कई बार स्टाफ की सैलरी देने में भी डिफॉल्ट किया था। न्यूज एजेंसी के मुताबिक पायलट और इंजीनियरों समेत सीनियर स्टाफ की सैलरी का दो महीने से ज्यादा का बैकलॉग चल रहा है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.