International News

Four people have died due to fire in Hoshangabad area | आपबीती: लपटें देख भतीजे से कहा- तू घर जा, मैं आ जाऊंगा; फसल बचाने में जिंदा जल गया चाचा


  • खेतों में आग से जानें गईं, प्रारंभिक आकलन में 1175 हेक्टेयर में नुकसान, घर-मकान भी जले 
  • निटाया गांव के खेत से शुरू हुई और आंधी से 16 गांवों तक फैलती गई 
  • 5 की हालत अभी भी गंभीर, 3 होशंगाबाद में तो 2 भोपाल में भर्ती

होशंगाबाद. निटाया गांव में एक खेत में लगी आग को आंधी ने इस कदर फैलाया कि इसने 16 गांवों के सैकड़ों हेक्टेयर की फसलों को रातोंरात राख कर डाला। फसल बचाने में तीन किसान खेत में ही जिंदा जले हैं। एक अन्य ट्रक ड्राइवर की सड़क किनारे वाहन समेत लपटों में घिरने से झुलसने के बाद मौत हो गई। एक घर और एक बाइक भी जली। संभवत: रविवार से ही सहायता राशि मिलना शुरू हो जाएगी। 

 

मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख और घायलों को 59 हजार रु. की मदद मिलेगी

होशंगाबाद और इटारसी तहसील में शुक्रवार रात धधकी आग से 1175 हेक्टेयर रकबे की फसल जली है। मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा। वहीं 20 घायलों को 59 हजार 100 रुपए के हिसाब से सहायता मिलेगी। कलेक्टर शीलेंद्र सिंह ने आग लगने के कारण का पता लगाने के लिए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। शनिवार को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी ने गांव का दौरा किया। सीएम कमलनाथ रविवार सुबह 10 बजे गांवों का दौरा करेंगे। वे यहां पांजराकला समेत अन्य गांव में जाएंगे।

 

पांजराकलां में तीन अर्थियां उठीं, तो गमगीन हो गए लोग

इधर, आग से जिंदा जले पांजराकलां गांव के तीनों  युवक दिलीप पिता गुलाब सिंह (25), अमित पिता टकचंद्र (34), गुरम साहब पिता परसराम (35) का अंतिम संस्कार होशंगाबाद में नर्मदा किनारे किया गया। वहीं अन्य शव की पहचान ट्रक ड्राइवर सिवनी छपारा के रंतोला गांव निवासी प्रीतम पिता फुद्दीलाल इनवतिया 25 के तौर पर हुई है। इस घटना के बाद शनिवार को पांजराकला में एक साथ तीन लोगों की अर्थियां उठीं तो हर व्यक्ति गमगीन हो गया।

 

पिता ने बुलाया, आग से बाहर नहीं आया 

अमित चौरे ने रात को 9.30 बजे अपने पिता टेकचंद को मोबाइल पर बताया कि पापा, टप्पर बचा लिया है पर रमन चाचा की फसल नहीं बच पाएगी। पिता ने कहा- बेटा तुम वापस आ जाओ। तभी गांव के राजेश चौरे से भी अमित का मिलना हुआ। उसने भी ट्रैक्टर खड़ा कर साथ चलने को कहा लेकिन वह बोला तुम चलो, मैं आ जाऊंगा। फिर संपर्क नहीं हुआ, रात को जली लाश मिली। मृतक की दो साल की बेटी भी है। 5 एकड़ जमीन नाम थी।

 

आग की चपेट में ये गांव 

होशंगाबाद तहसीलदार शैलेंद्र बड़ोनिया ने बताया होशंगाबाद के गांव कुलामढ़ी पवारखेड़ा, रायपुर, फेफरताल, रसूलिया, पांजराकला, निमसाड़िया, बड़ोदिया, मेहराघाट, निटाया, करोंदाढाना, ग्वाड़ी शामिल हैं। इटारसी के धोखेड़ा, तारारोड़ा, लोहारिया, रैसलपुर में आग से नुकसान हुआ है। 

 

फसल आने के बाद होनी थी शादी 

खेत में आग में मृत दिलीप के भाई घनराज गुलाबदास चौरे ने बताया हम 8 भाई बहन हैं। दिलीप सबसे छोटा था। इस साल फसल आने के बाद इसकी शादी के लिए लड़की देखने जाना था। दिलीप हमारे पड़ोसी रहे अमित चौरे के साथ ट्रैक्टर से गांव के खेतों में लगी आग को रोकने के लिए गाया था। पर देर रात तक हमको पता नहीं चला। रात को एक बजे नहीं आने पर जिला अस्पताल पहुंचने पर पता चला की उसकी मौत हो गई। पूरा गांव शोक में है। 

 

दो हेक्टेयर से ज्यादा जमीन वाले को मिलेंगे 30 हजार रु. प्रति हेक्टेयर 

दो हेक्टेयर से ज्यादा जमीन रखने वाले किसानों को 30 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर के हिसाब से नुकसान का पैसा मिलेगा। जिन किसानों दो हेक्टेयर से कम जमीन है उन्हें 27 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर के हिसाब से राशि सीधे खाते में दो दिन में पहुंचा दी जाएगी। यह राशि सर्वे रिपोर्ट के अनुसार दी जाएगी। किसानों को फसल बीमा की राशि भी मिलेगी। संबंधित बीमा कंपनी के लोग आएंगे और खेतों का सर्वे करेंगे। सर्वे के बाद वे राशि देंगे। 

 

शिवराज ने किया नेशनल अस्पताल में फोन, कहा- इलाज का खर्च में उठाऊंगा 

स्वाती से शिवराज सिंह ने पूछा कहा इलाज हो रहा है। स्वाती ने बताया भोपाल के नेशनल अस्पताल में । इसके बाद शिवराज सिंह ने वहीं से डॉ. पांडे को मोबाइल लगाकर कहा इनका इलाज का खर्च का इंजजाम हम करेंगे। इनका बेहतर इलाज किया जाए।





Source link

About the author

Non Author

Leave a Comment