हेल्‍थ अलर्ट! होली में बिकने आते है मिलावटी पनीर-खोया, ऐसे फर्क करें असली और नकली में | Beware of adulterated Paneer, Khoya and milk this Holi!

0
2


ऐसे बनाया जाता है खोया

ऐसे बनाया जाता है खोया

स्किम्ड दूध और पाम ऑयल को मिलाकर पेस्ट तैयार किया जाता है। तेज आंच पर उसे उबाला जाता है। फिर सैफोलाइट नामक केमिकल, उबले आलू, अरारोट, शकरकंद मिलाकर तैयार किया जाता है। असली दिखने के लिए रंग और एसेंस का इस्तेमाल किया जाता है।

 मिलावटी पनीर-खोआ खाने से हो सकता कैंसर

मिलावटी पनीर-खोआ खाने से हो सकता कैंसर

मिलावटी खोआ व पनीर से पेट दर्द, डायरिया, मरोड़, एसिडिटी और इनडाइजेशन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। ज्यादा मात्रा में सेवन से तो इंटरनल ऑर्गन्स तक भी बुरा असर पड़ता है। मिलावटी पनीर व खोआ खाने से किडनी व लीवर सीधे प्रभावित होते हैं। तीन माह तक यदि मिलावटी पनीर, खोआ या ऐसे अन्य कोई भी सामान खाया जाए तो लीवर कैंसर की बीमारी हो सकती है।

Most Read : खाली पेट कभी न खाएं संतरा, अधिक संतरा खाने से हो सकते हैं ये नुकसान

इस तरह से करें पहचान

इस तरह से करें पहचान

कहीं आप गलतफहमी में नकली खोया तो नहीं खा रहे हैं इसके ल‍िए बहुत जरुरी है कि आपको असली व नकली पनीर-खोआ में पहचान होना जरुरी है। इनकी शुद्धता खुद भी कर सकते हैं।

मसलकर देखें

मसलकर देखें

छोटा-सा टुकड़ा हाथ पर मसलें। टूट कर यदि वह बिखरने लगे तो समझ लीजिए कि पनीर अथवा खोआ मिलावटी है। क्योंकि, उनमें जो केमिकल्स होते हैं वे अत्यधिक दबाव नहीं सह पाते हैं।

 आयोडीन से करें चैक

आयोडीन से करें चैक

यदि इन्हें घर ले आए हों तो थोड़े पानी में उबाल लें और ठंडा होने दें। फिर उसके छोटे से टुकड़े पर आयोडीन का टिंचर डालें। अगर रंग नीला पड़ने लगे तो समझिए कि वह मिलावटी है।

चखकर

चखकर

असली खोआ को पहचानने का आसान तरीका यह भी है कि वह चिपचिपा नहीं होता है। इसके साथ ही उसे चख कर भी देखें। यदि उसका स्वाद कसैला लगे तो वह नकली हो सकता है।

Most Read : कुकर में खाना बनाना होता है हेल्‍दी, जानिए क्‍या पकाएं और क्‍या नहीं

 नाखून से रगड़े

नाखून से रगड़े

खोआ की तो अंगूठे के नाखून पर रगड़ कर भी पहचान की जा सकती है। असली खोआ से घी की खुशबू आएगी और वह देर तक रहेगी।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here