स्टडी में हुआ खुलासा इस उम्र के बाद लड़कियों में आने लगती है मां वाली भावना | Study Finds the Age Women Start Turning Into Their Moms

0
9


Basics

oi-Divya Sahu

|

जरूरी नहीं है कि शादी के बाद बच्चे को जन्म देकर ही किसी लड़की में मातृत्व का एहसास पैदा होता है। एक उम्र के बाद उनके अंदर की ममता जाग जाती है। इस खास उम्र के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए शोध भी कराया गया। इस शोध में इस बात की जानकारी मिली कि महिला चाहे शादीशुदा हो या अविवाहित 33 साल की उम्र के दौरान उनके अंदर मातृत्व का एहसास जगने लगता है।

2000 लोगों को किया शामिल

इस नतीजे पर पहुंचने के लिए सर्वे में 2000 महिला और पुरुषों को शामिल किया गया। महिलाओं के जरिए ये पता चला कि तीस के आंकड़े तक पहुंचते ही वो अपनी मां की तरह बर्ताव करने लगती हैं। उन्हें महसूस हुआ कि अपने आप ही उनके अंदर मां जैसी भावना आने लग गई और उनका व्यवहार वैसा ही होने लगा जैसा उनकी मां का था।

ब्रिटेन की सर्जन जूलियन डी सिल्वा की अगुवाई में इस शोध को अंजाम दिया गया। बकौल जूलियन 33 साल के अंदर औसतन महिलाएं अपनी मां की तरह बर्ताव करने लगती हैं। अमेरिका में तीस साल की महिलाओं के बर्ताव में उनकी मां की झलक नजर आने लगती है। बचपन में जैसा उन्होंने अपनी मां को करते देखा था, वैसा ही वो भी करने लगती हैं। वहीं दूसरी तरफ, ब्राजील और ब्रिटेन में मां बनते ही महिलाओं के अंदर अपनी मां की तरह क्वालिटी आ जाती है।

Most Read: कामयाब शादी के लिए क्या है बेस्ट एज गैप, स्टडी में हुआ खुलासा

पुरुष भी थे इस शोध में शामिल

इस शोध के अनुसार पुरुषों के अंदर भी ऐसे ही कुछ बदलाव आते हैं। औसतन 34 साल के होने के बाद मर्द अपने पिता की तरह व्यवहार करने लगते हैं। इस शोध की महत्वपूर्ण बात ये है कि इसमें अलग अलग देशों के लिए अलग अलग उम्र बताई गयी है। इस शोध में शामिल विशेषज्ञों के मुताबिक ब्रिटेन में पुरुषों के लिए ये उम्र साढ़े तैतीस साल है। इसका मतलब है कि अपने बच्चे हों या दूसरों के उन्हें देखकर अंदर से ही उन्हें गार्जियन जैसा बर्ताव करने का मन होने लगता है।

डॉक्टर जूलियन मानती हैं कि भौगोलिक परिस्थिति जो भी हो लेकिन एक उम्र के बाद महिला तथा पुरुषों में उनके माता पिता की तरह भावनाएं आने लगती हैं, उनमें जिम्मेदारी का एहसास भी विकसित होने लगता है।

Most Read: कम अट्रैक्टिव हसबैंड की वाइफ रहती है ज्यादा खुश, और क्या कहती है इससे जुड़ी रिसर्च





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here