Women Pregnancy

वजाइना में खुद से कैसे करें गर्भनिरोधक आई यू डी स्ट्रिंग्स की जांच | how to check iud strings


अपने आई यू डी स्ट्रिंग्स के लिए जांच कैसे करें?

अपने आई यू डी स्ट्रिंग्स के लिए जांच कैसे करें?

आई यू डी को बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के 99.9 प्रतिशत असरदार माना गया है लेकिन असर करने के लिए इसका अपनी सही जगह पर होना बहुत ज़रूरी है। आई यू डी को एक स्पेशल इनसॉर्टर की मदद से गर्भाशय में डाला जाता है और यह स्वाभाविक रूप से अपनी स्थिति को बनाए रखने में सक्षम होना चाहिए लेकिन कई बार यह अपनी जगह से फिसल या सरक जाता है। ऐसे में आपके डॉक्टर आपको अपने आई यू डी स्ट्रिंग्स की सही पोजीशन को जांचते रहने की सलाह देंगे।

Most Read:प्रेगनेंसी में हॉट टब के इस्तेमाल से हो सकता है गर्भपात

ऐसे करें अपने आई यू डी स्ट्रिंग्स की जांच

ऐसे करें अपने आई यू डी स्ट्रिंग्स की जांच

1. हाथों को साफ सुथरा रखें।

2. ऐसे पोजीशन में बैठें जिसमें आप सहज महसूस करें। आप ज़मीन पर भी बैठ सकती हैं।

3. अपनी तर्जनी ऊंगली या फिर मध्यम ऊंगली को अपने वजाइना में तब तक डालते रहें जब तक आप सर्विक्स को छू न लें। छूने पर आपको अपने नाक की नोक की तरह महसूस होगा। स्ट्रिंग्स वहीं पर स्थित होना चाहिए।

4. भविष्य के संदर्भ के लिए स्ट्रिंग्स की लंबाई और पोजीशन को ध्यान में रखें। स्ट्रिंग्स इन्सर्ट कराने के फौरन बाद भी आप इसकी पोजीशन की जांच कर सकते हैं ताकि जब आप दोबारा चेक करें तो आपको इसके सही पोजीशन के बारे में पता हो।

कितनी बार और कब आई यू डी की जांच करें

कितनी बार और कब आई यू डी की जांच करें

इन्सर्ट कराने के बाद आपको कुछ कुछ हफ़्तों के अंदर ही इसकी जांच करते रहना चाहिए क्योंकि इसके अपनी जगह से हटने की संभावना ज़्यादा रहती है। आमतौर पर इन्सर्ट कराने के बाद आप अपने आई यू डी की जांच हफ्ते में दो से तीन बार कर सकती हैं। ऐसा आप लगातार तीन महीनों तक करें। पीरियड्स के दौरान भी आप इसकी जांच कर सकती हैं क्योंकि इस समय इसके फिसलने की संभावना ज़्यादा रहती है। शुरुआत में केवल पीरियड्स के समय ही इसकी जांच करना पर्याप्त है।

Most Read:भूलकर भी न दें बच्चों को ये आयुर्वेदिक दवाइयां

क्या आई यू डी गिर सकता है?

क्या आई यू डी गिर सकता है?

आई यू डी एक छोटा सा डिवाइस होता है जो आसानी से फिसल सकता है। कई महिलाओं को आई यू डी के गिरने का पता भी नहीं चल पाता जिसके कारण वो गर्भवती हो जाती हैं। ऐसी स्थिति को एक्सपल्शन कहते है। हालांकि डॉक्टर्स इसके गिरने का सही कारण नहीं बता पाते फिर भी पीरियड्स के दौरान इसके गिरने की संभावना ज़्यादा रहती है। अगर आपको अपने आई यू डी के स्ट्रिंग्स महसूस न हो रहे हों या फिर आपको लगे कि वह बहुत छोटे या लंबे हैं तो इसका मतलब वह अपनी जगह पर नहीं है।

एक्सपल्शन के लक्षण क्या हैं?

एक्सपल्शन के लक्षण क्या हैं?

हालांकि आई यू डी के स्लिप होने का आपको पता नहीं चल पाता लेकिन आपका शरीर कुछ ऐसे संकेत दे सकता है जिससे आप यह जान सकते हैं कि आई यू डी अपनी जगह पर नहीं है, जैसे

तेज़ ऐंठन

असामान्य डिस्चार्ज

भारी रक्तस्राव

इन लक्षणों के साथ आपको तेज़ बुखार भी आ सकता है जो इस बात का संकेत देता है की आपका शरीर किसी इंफेक्शन से जूझ रहा है।

Most Read:प्रीमैच्‍योर बेबी को होने वाली सामान्‍य दिक्‍कतें

जब आई यू डी गिर जाए

जब आई यू डी गिर जाए

जब आपको स्ट्रिंग्स महसूस न हो या फिर वह आपको ज़्यादा छोटा या लम्बा लगने लगे तो बेहतर होगा आप अपने डॉक्टर से एक बार जांच करवा लें। खुद से उसे अंदर की तरफ धकलने या बाहर खींचने की कोशिश भूकलर भी न करें। ऐसे में आपको सेक्स से भी परहेज़ करना चाहिए।





Source link

About the author

Non Author

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.