अचार खाए या चटनी, जाने दोनों में से क्‍या खाना है ज्‍यादा हेल्‍दी | Pickle vs Chutney – Which Is Healthier?

0
4


अचार से बचने की जरूरत नहीं

अचार से बचने की जरूरत नहीं

आप अचार का तेल देखकर उसे खाने से बचते हैं, एक्‍सपर्ट की मानें तो अचार फर्मेंटेशन से बनते हैं। जब आप इनमें तेल और नमक मिलाते हैं तो उनमें मौजूद अच्‍छे बैक्‍टीरिया को पनपने का मौका मिलता है। ये हमारी आंतों के लिए फायदेमंद हैं और बुरे या हानिकारक बैक्‍टीरिया को खत्‍म करते हैं। अचार में मौजूद नमक आपके पाचन को बेहतर बनाता है। इसमें मिलाए जाने वाला सरसों का तेल भी फायदेमंद होता है।

Most Read : रसगुल्‍ला या गुलाब जामुन! जानिए क्‍यों छैना खाना है हेल्‍दी ऑप्‍शन

 सेहत के ल‍िए अच्‍छा होता है अचार

सेहत के ल‍िए अच्‍छा होता है अचार

अचार में सब्जियों का उपायोग होता है, जो विटमिन ए, बी12, सी, ऐंटीऑक्सिडेंट और फोलेट से भरपूर होते हैं। ये गैस, एनीमिया और पेट की गड़बड़ी में राहत देते हैं। इसलिए अचार सेहत के लिए खराब नहीं बल्कि फायदेमंद होते हैं।

चटनी के फायदे

चटनी के फायदे

चटनी में बहुत ही कम मात्रा में कैलोरी पाई जाती है। ये लहसुन, अदरक, प्‍याज, धनिया जैसी ताजी जड़ों और पत्तियों का इस्‍तेमाल से बनती है। इनमें तेल या तो डाला ही नहीं जाता या बहुत कम डाला जाता है इसलिए ये लगभग फैट फ्री होती है।

एंजाइम पाचन तंत्र को भी बेहतर बनाएं

एंजाइम पाचन तंत्र को भी बेहतर बनाएं

ताजे होने की वजह से इनमें एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो शरीर को तमाम बीमारियों से बचाते हैं। ये कच्‍ची चीजों से बनती हैं इसलिए इनमें मौजूद एंजाइम पाचन तंत्र को भी बेहतर बनाते हैं। इसल‍िए आमतौर में हर भारतीय रसोई में खाने के साथ चटनी भी जरुर बनाई जाती है।

Most Read : दही-चिवड़ा है देसी और पौष्टिक नाश्‍ता, प्रेगनेंट महिलाओं को भी खाना चाह‍िए

ज्‍यादा मात्रा में न करें सेवन

ज्‍यादा मात्रा में न करें सेवन

कहते है न किसी भी चीज की अधिकता होने से नुकसान होने का खतरा रहता है। वैसे ही चटनी और अचार खाने में कोई समस्‍या नहीं हैं, बस अधिक मात्रा में सेवन कर ल‍िया जाए तो नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसी तरह इन्‍हें बनाते समय तेल और नमक दोनों का इस्‍तेमाल सीमित मात्रा में होना चाह‍िए।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here