Wednesday, May 22, 2019
Home Blog
<!----> डायपर रैशेज हर माता-पिता को यह चिंता होती है कि उनके शिशु को डायपर रैशेज हो सकते हैं। डायपर की वजह से छोटे बच्चों को शुरूआती महीनों में ही रैशेज हो जाते हैं। खराब बात ये है कि वे इतने छोटे होते हैं कि रैशेज से होने वाले दर्द को आसानी...
<!----> के-ट्रेड यह एक्सरसाइज बाजुओं, छाती, एब्स, हिप्स और कमर के लिए है। स्वीमिंग पूल में उतरकर सीधे खड़े हो जाएं। दोनों हाथों को क्लॉकवाइज घुमाएंऔर धीरे-धीरे पैरों से साइकिलिंग करें। बीच-बीच में पांच-पांच सेकंड का ब्रेक लें। <!----> वाटर मार्चिंग इससे बाजू और पैर मजबूत होंगे और वजन...
<!----> इन दिनों बढ़ जाती है मांग गर्मी चरम पर है और रमजान भी चल रहा है। लेकिन इस बीच बाजार में रूह अफजा की कमी हो गई है। सोशल मीडिया पर भी इसकी खूब चर्चा हो रही है। गर्मी में जहां रुह अफजा की डिमांड बढ़ती वहीं रमजान में भी...
<!----> परफेक्ट फिटिंग आपकी स्पोर्ट्स ब्रा की फिटिंग सही है या नहीं यह जानने के लिए इन बातों पर ध्यान दें। स्पोर्ट्स ब्रा ऐसी होनी चाहिए जो आपके अंडरआर्म्स, शोल्डर स्ट्रैप की स्किन को किसी तरह से न दबाए। ब्रा पहनने के बाद ब्रेस्ट सेंटर में होना चाहिए और पूरी तरह से...
<!----> पार्सले का फेस पैक पार्सले में विटामिन सी और ए पाया जाता है। ये सेहत के लिए अच्छा होने के साथ ही त्वचा के लिए भी फायदेमंद होता है। ये स्किन को सॉफ्ट करता है और इसमें पाए जाने वाले बीटा कैरोटीन और विटामिन त्वचा में कसाव लाते हैं। सामग्री पार्सले की...
<!----> इम्यून सिस्टम को करे मज़बूत कटहल में विटामिन सी की मात्रा काफी होती है। इसे अपने खानपान में शामिल करके आप मामूली इन्फेक्शन, जो बाद में स्थिति को खराब कर सकते हैं, उनसे बचे रह सकते हैं। Most Read: सिजेरियन डिलीवरी नहीं चाहती तो इन बातों का रखें ख्याल <!----> ...
<!----> हस्‍तमैथुन से होता है हेयरफॉल की वजह मास्‍टरबेट को लेकर कई मिथक लोगों के बीच फैलाई हुई है। इनमें से एक है मास्‍टरबेट करने की भ्रांतियां बालों के झड़ने से लेकर आंखों के अंधेपन तक हर चीज से जुड़ी हैं। लेकिन इन मिथकों का कोई वैज्ञानिक समर्थन या प्रमाण नहीं...
<!----> पहला तरीका : बॉडी कैमिस्ट्री में बदलाव महिला के मासिक बॉडी साइकिल के दौरान पीएच लेवल्स बार बार बदलते हैं। इससे भी बेबी का जेंडर प्रभावित होता है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि फॉलिक्युलर फ्लुइड में एल्कलीन से वाय स्पर्म जिससे बेटा पैदा होता है और फॉलिक्युलर फ्लुइड में एसिडिक से एक्स...
<!----> सभी जरुरी जांच कराएं अगर आप गर्भधारण करना चाहती है तो 3 महीने पहले से प्रेग्नेंसी की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। तीन महीने पहले सभी जरूरी टेस्ट जैसे थायरॉयड, सिस्ट आदि का टेस्ट जरूर कराएं। साथ ही प्रेग्नेंसी के 3 महीने पहले से ही महिलाओं को फॉल‍िक एसिड का सेवन...